Blogger Widgets
धर्मजागृति,हिन्दू-संगठन एवं राष्ट्ररक्षा हेतु साधकों द्वारा साधनास्वरूप आर्थिक हानि सहते हुए भी चलाया जानेवाला एकमात्र पाक्षिक !
भाद्रपद पूर्णिमा - आश्‍विन अमावस्या,
कलियुग वर्ष ५११८ (१६ से ३० सितंबर २०१६)

नवरात्रि एवं घटस्थापना

यदि आप  ग्रंथ क्रय करने के इच्छुक हैं, तो आगे दिए अपने निकटवर्ती केंद्र से संपर्क कीजिए ।
देहली - ९९९०८५१५७०, संगणकीय पत्र - delhikendrass@gmail.com, फरीदाबाद (हरियाणा) - ९७१७५९१७७०, वाराणसी - (०५४२) २५९ ०२२३, झारखंड : धनबाद - ९३३४३५५२४४;
राजस्थान : जयपुर - ९३१४८९४८२६; मध्यप्रदेश : भोपाल - ७६९७१८३६५१, गुजरात : बडोदा - ९९९८९७३०६३; महाराष्ट्र : मुंबई - ठाणे (०२२) २५४७ ८९९०, कर्नाटक : मुल्की - (०८२४) ३२५०१९१

आश्‍विन प्रतिपदा से नवमी तक (१ अक्टूबर से १० अक्टूबर) नवरात्रोत्सव मनाने की पद्धति 
     घटरूपी (कलशरूपी) ब्रह्मांड में मारक चैतन्य के साथ अवतीर्ण तेजस्वी आदिशक्ति की अखंड जलनेवाले नंदादीप के माध्यम से नौ दिन पूजा करना ही नवरात्रोत्सव मनाना है ।
अ. घर के किसी पवित्र स्थान पर एक वेदी तैयार कर, उसपर सिंहारूढ अष्टभुजा देवी की और नवार्णव यंत्र की स्थापना की जाती है । यंत्र के समीप घटस्थापना कर, कलश एवं देवी का यथाविधि पूजन किया जाता है ।
आ. नवरात्रि महोत्सव में कुलाचारानुसार घटस्थापना एवं मालाबंधन करें । खेत की मिट्टी लाकर दो पोर चौडा चौकोर स्थान बनाकर, उसमें पांच या सात प्रकार के धान बोए जाते हैं । इसमें (पांच या) सप्तधान्य रखें । जौ, गेहूं, तिल, मूंग, चेना, सांवां, चने सप्तधान्य हैं ।

रशिया में पॉर्न जालस्थल पर प्रतिबंध !

      मॉस्को (रशिया) - विश्‍व के सबसे बडे पॉर्न संकेतस्थल पॉर्नहब तथा यूपॉर्न पर रशिया में प्रतिबंध लगा दिया गया है । रशिया के सूचना तकनीकी तथा मास मीडिया डिपार्टमेंट ने ही यह प्रतिबंध लगाया है । पॉर्नहब पर वर्ष २०१५ में ही प्रतिबंध लगाया गया था; फिर यह हटा दिया गया था । (भारत में सरकार द्वारा प्रतिबंधित ऐसे जालस्थल, विरोध होने के कारण वह उनपर लगा प्रतिबंध हटाया गया था । क्या सरकार रशिया से प्रेरणा लेकर यह निर्णय बदलेगी ? - संपादक) (१७ सितंबर)

क्या इस्लामिक स्टेट के मूल भारत में और गहरी होंगी ?

दक्षिण एशिया के विशेषकर भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान पर इसिस का ध्यान है । इन चारों देशों में मुसलमानों की संख्या बहुत है और वहां दरिद्रता तथा गरिबी अन् बेरोजगारी भी बहुत है । इसलिए, इसिस को लगता है कि इन देशों में उसे आवश्यक संख्या में कार्यकर्ता मिल सकते हैं ।
आजतक हम इस्लामिक स्टेट, (इसिस) के यूरोपीय देशों में किए अमानीय हिंसा के समाचार पढते थे । हमारे देश के कुछ भागों में कुछ युवकों को संदेह के आधार पर बंदी बनाने का समाचार पढकर देशवासियों को लग रहा है कि इसिस द्वार पर पहुंच गया है । इससे वे भयभीत हैं । 

जन्माष्टमी के निमित्त महर्षिजी का साधकों के लिए संदेश और उसका भावार्थ !

इस जन्माष्टमी से वसुदेव के आठवें अंश, भगवान श्रीकृष्ण का प्रकटीकरण आरंभ ! 
लाखों वर्ष पहले महर्षियों द्वारा लिखित नाडीभविष्य का वाचन तमिलनाडु के पू. डॉ. ॐ उलगनाथन्जी करते हैं । इस नाडीवाचन में उन्होंने महर्षि का संदेश पढकर बताया वह इस प्रकार है । तत्पश्‍चात साधकों ने भगवान श्रीकृष्ण से बताई गई प्रार्थना भी की ।

परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी के ओजस्वी विचार

जिस प्रकार भगवान श्रीकृष्ण की निर्दोषता सिद्ध हुई,
उसी प्रकार सनातन के साधकों की भी होगी !
 
    जब भगवान श्रीकृष्ण पर भी स्यमंतक मणि चुराने का आरोप लगाया गया, तो सनातन के साधकों पर लग रहे हत्या के आरोपों से क्या आश्‍चर्यचकित होना ! भविष्य में, जिस प्रकार भगवान श्रीकृष्ण की निर्दोषता सिद्ध हुई, उसी प्रकार सनातन के साधकों की भी होगी ! - (परात्पर गुरु) डॉ. आठवले

सात्त्विक देवनागरी अक्षर और अंक लिखने की पद्धति (देवनागरी अक्षर, अर्थात संस्कृत, हिन्दी एवं मराठी अक्षर)

    बच्चों से अक्षर लिखवाते समय उन पर अच्छी लिखावट का सुसंस्कार होने के लिए अक्षर सात्त्विक होने चाहिए । उन्हें कैसे बनाएं, यह प्रस्तुत ग्रंथ में दिया है । ऐसे अक्षरों की लिखाई लिखनेवाला एवं पढनेवाला, दोनों को इन अक्षरों से चैतन्य का लाभ होता है ।
सनातन का नूतन प्रकाशन : आपातकाल के लिए संजीवनी ग्रंथमाला
                                          मनोविकारोंके लिए स्वसम्मोहन उपचार (भाग १)

रा.स्व. संघ द्वारा शस्त्रसंग्रह हेतु मंदिरों का उपयोग ! - केरल के कम्यूनिस्ट पक्ष की सरकार के मंत्री का आरोप

  • मदरसे, मस्जिदों से आतंकवादी निर्माण होते हैं तथा उनका उपयोग शस्त्रसंग्रह तथा आतंकवादी प्रशिक्षणों के लिए किया जाता है । ध्यान रखें ऐसी घटनाएं अनेक बार सामने आने पर भी कम्यूनिस्ट पक्ष ने इस पर अभी तक मुंह नहीं खोला है !
  • केरल में कम्यूनिस्ट पक्ष के कार्यकर्ताआें ने अभी तक कितने स्वयंसेवकों की हत्या की है, यह भी मंत्री महोदय को सार्वजनिक करना चाहिए ! केरल से कितने मुसलमान युवक इसिस में सम्मिलित हुए हैं तथा जिहादी संगठन पॉॅप्यूलर फ्रंट ऑफ इंडिया ने कितनी कार्यवाहियां की हैं, यह भी मंत्री बताएं ! 
  • केरल में धर्मांध मुसलमान युवकों ने ६ सहस्र हिन्दू और ईसाई युवतियों को लव जिहाद में फंसाया है, यह सुरेंद्रम् क्यों नहीं बताते ?
    थिरुवनंतपुरम् - केरल के मंत्री कडकांपल्ले सुरेंद्रम् ने आरोप लगाया है कि रा.स्व. संघ द्वारा शस्त्रसंग्रह हेतु मंदिरों का उपयोग किया जाता है ।

ओला कैब्स द्वारा किए जा रहे श्री गणेश के अनादर से हिन्दुआें में रोष !

    हिन्दुद्रोहियों का निषेध करने का मुख्य उद्देश्य उनमें वैचारिक परिवर्तन करना है । इसलिए किसी का भी निषेध करते समय तात्त्विक सूत्रों के आधार पर वैचारिक स्तर पर करें ! भूल करनेवाले व्यक्ति को उसकी त्रुटि (गलती) बताकर उचित मार्ग पर लाना, ऐसा व्यापक दृष्टिकोण निषेध व्यक्त करने में हो !

    नई देहली - परिवहन के लिए मोबाइल एप का उपयोग करनेवाले ओला प्रतिष्ठान ने अपने ब्लॉग की एक पोस्ट में श्री गणेशचतुर्थी पर श्री गणेश की चांदी की मूर्ति आपके घरतक पहुंचाएंगे, ऐसा विज्ञापन किया है ।

हिन्दुआें के संगठित और वैध मार्ग से विरोध करने का फल !

हिन्दुओ, इस सफलता के लिए भगवान श्रीकृष्ण के चरणों में कृतज्ञता व्यक्त करो !

अमेरिका की ओम गैलरी के प्रवेशद्वार पर लगाई ॐ की पटिया 

हिन्दू जनजागृति समिति के अभियान के कारण हटाई !
    कैलिफोर्निया (अमेरिका) -  कैलिफोर्निया राज्य के सांताक्रूज की ओम गैलरी के प्रवेशद्वार पर लगाई ॐ की पटिया हिन्दू जनजागृति समिति के विरोध के उपरांत हटा दी गई है । समिति के नेतृत्व में धर्माभिमानी हिन्दुआें ने वैध मार्ग से विरोध कर गैलरी को यह अनादर रोकने को बाध्य किया ।
१. ओम गैलरी संसार में विविध स्थानों पर पारिवारिक उद्योगक्षेत्र में कार्य कर रही है । इस गैलरी की हस्तशिल्प की दुकानें भारत और विदेश में हैं ।

बलुचिस्तान - दूसरा बांग्लादेश !


      लालकिले पर भाषण देने के पूर्व मोदीजी ने सर्वदलीय बैठक में पाक को कठोर शब्दों में बताया था कि पाकव्याप्त कश्मीर भारत का है । कांग्रेस, विदेश और कश्मीर नीति के इतिहास में पहले प्रधानमंत्री ने पाकव्याप्त कश्मीर का विषय प्रस्तुत किया ।

जनपद बरेली में मंदिर पर लगाए ध्वनिवर्धक का लाऊड- स्पीकर का) विरोध करनेवाले कट्टरपंथियों द्वारा पुनः हिंसाचार !

बरेली (उत्तरप्रदेश) - जनपद बरेली में हाफिजगंज के उदरनपुर गोटिया गांव में ब्रह्मदेव मंदिर पर लगाए ध्वनिवर्धक को लेकर कुछ दिन पूर्व धर्मांधों द्वारा हिंसाचार किया गया था । इसमें ६ लोग घायल हुए । घटनास्थल पर पहुंचे पुलिसकर्मियों ने तत्काल परिस्थिति को नियंत्रण में लिया ।

निरक्षर भारत !

        २०११ की जणगणना के कुछ आंकडे अब सामने आए हैं । इसमें धर्म के आधार पर साक्षरता और निरक्षरता की जानकारी है । ७ वर्ष से छोटे निरक्षरों में ४२.७२ प्रतिशत मुसलमान और ३६.४० प्रतिशत हिन्दू है । इन दो धर्मों की जनसंख्या सर्वाधिक होने से लगभग ३५ करोड लोग निरक्षर हैं, ऐसा कहा जा सकता है । १२५ करोड लोगों में से ३५ करोड निरक्षर हैं, यह भारत की स्वतंत्रता के उपरांत की प्रगति है !

उत्तरप्रदेश में ५ महीनों में बलात्कार की १ सहस्र घटनाएं !

लक्ष्मणपुरी (उत्तरप्रदेश) - राज्य सरकार की जानकारी के अनुसार उत्तरप्रदेश में पिछले ५ महीनों में बलात्कार के १ सहस्र १२, छेडखानी के ४ सहस्र ५२० अपराध प्रविष्ट हुए हैं । विधानसभा में भाजपा के सतीश मेहाना द्वारा पूछे गए प्रश्‍न पर सरकार द्वारा दिए गए लिखित उत्तर में बताया गया है कि इस वर्ष १५ मार्च से १८ अगस्त के बीच बलात्कार, महिलाआें की छेडखानी तथा लूुटपाट के १ सहस्र ३८६, और डाका डालने के ८६ अपराध प्रविष्ट हुए हैं ।

गोमांस खाकर धावक उसेन बोल्ट ने स्वर्णपदक जीते, इसलिए भारतीय खिलाडियों को गोमांस खाना चाहिए ! - उदितराज, सांसद, भाजपा

    नई देहली - भाजपा के देहली के सांसद उदितराज ने एक बहुत ही आपत्तिजनक बात ट्वीट की है । इस ट्वीट में वे लिखते हैं, जमैका देश का धावक उसेन बोल्ट बहुत निर्धन था । दुर्बल था । उस समय उसके प्रशिक्षक ने उसे गोमांस खाने का सुझाव दिया । फलस्वरूप, उसने ओलंपिक में ९ स्वर्णपदक जीते । गोमांस से प्रोटीन मिलता है । इसमें बुरा क्या है ? भाजपा कभी नहीं कहती कि कौन क्या खाए । हमारे प्रशिक्षक भी खिलाडियों को गोमांस खाने का सुझाव दें । जब इसकी कठोर आलोचना होने लगी, तब उन्होंने वह ट्वीट हटा दिया । 

फ्लैट बेचना है !

    सनातन संकुल, देवद, नवीन पनवेल स्थित, रेल्वे स्टेशन से वॉकींग डिस्टेन्स पर, सर्व सुविधायुक्त, NA प्लॉट पर २ बीएचके फ्लैट, भूतल, ८०० स्क्वे. फुट.
संपर्क : श्रीमती गौरी आफळे
९३२४२३७२९९, ९१६७८६६५३०

केरल में ईसाईयों के भेदभावयुक्त व्यवहार से ऊबकर दलित ईसाइयों की घर वापसी !

ईसाइयों का सत्य स्वरूप सामने आने पर स्वगृह लौटनेवाले
हिन्दुआें का अभिनंदन ! इनका आदर्श अन्य धर्मांतरित हिन्दू लें ! 
    तिरुवनंतपुरम् (केरल) - यहां हिन्दुत्वनिष्ठ संगठनों द्वारा चलाए जा रहे घर वापसी अभियान को अच्छा प्रतिसाद मिल रहा है । ईसाइयों के भेदभावयुक्त व्यवहार से ऊबकर अनेक दलित ईसाइयों ने घर वापसी की है और अन्य करने जा रहे हैं ।

नेपाल को धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र घोषित करने पर हुए राजनीतिक उतार-चढाव से वहां की जनता को अनुभव हुआ भयावह आपातकाल !

 आज तक अनेक भविष्यद्रष्टा साधु-संतों ने भविष्यवाणियां की हैं । उनके अनुसार पृथ्वी पर शीघ्र ही भयानक आपातकाल आएगा । सुनामी, जलप्रलय, भूकंप आदि अनेक आपदाआें का हमें सामना करना पडेगा । आपातकाल द्वार पर पहुंच गया है; तब भी साधारण जनता मौज-मजा करने, पैसा कमाने और पैसा बहाने में मग्न है ।

कश्मीर में त्रिस्तरीय सुरक्षा तंत्र में परिवर्तन करने से ही कश्मीर के हिंसाचार में वृद्धि !

    कश्मीर में डेढ महीने से जारी हिंसक आक्रमण के लिए निष्क्रिय राज्यशासन ही उत्तरदायी है ! जम्मू-कश्मीर की स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए पांच प्रतिशत समाजकंटकों को सबक सिखाने के अतिरिक्त मार्ग नहीं है !
सैनिकों पर पथराव करते हुए जिहादी
 श्रीनगर (कश्मीर) - गुप्तचर तंत्र के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि कश्मीर घाटी में हिंसाचार बढने का एकमात्र कारण वहां के युवकों का जिहादीकरण नहीं है, अपितु राज्य के त्रिस्तरीय सुरक्षा तंत्र में पीडीपी-भाजपा सरकार द्वारा किया गया परिवर्तन महत्वपूर्ण कारण है । 

पंजाब गोरक्षा दल के प्रमुख श्री. सतीशकुमार प्रधान की बंदी का अनेक हिन्दुत्वनिष्ठ संगठनों द्वारा निषेध !

गोरक्षकों को नाहक प्रताडित करने का मूल्य शासन को चुकाना पडेगा !
- पंडितकाका मोडक, सरसेनापति हंबीरराव मोहिते गोशाळा, वडकी
    सतीश प्रधान केवल गोरक्षक नहीं, अपितु वे साधु ही हैं । जब उनसे भेंट का अवसर मिला, तब मैंने देखा कि वे तडके चार बजे उठकर गोशाला में गोमाता की सेवा करते हैं । गोरक्षा के लिए वे रात-दिन परिश्रम कर रहे है। 

गोरक्षकों पर कार्यवाही और कसाइयों को खुली छूट, यह हिन्दुआें पर अन्याय ! - हिन्दू जनजागृति समिति

    देश का दुर्भाग्य है कि हिन्दुआें को पूजनीय गोमाता की हत्या करनेवाले कसाइयों को खुली छूट और स्वयं की धार्मिक श्रद्धाआें की रक्षा करनेवाले गोरक्षकों पर कार्यवाही होती है । हिन्दू जनजागृति समिति के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्री. रमेश शिंदे ने एक पत्रक द्वारा चेतावनी दी है कि शासन को अपनी इस अन्यायकारी भूमिका पर पुनर्विचार करना चाहिए, अन्यथा देशभर में गोरक्षकों के समर्थन में बडा जन आंदोलन किया जाएगा ।
    इस पत्रक में कहा गया है कि,
१. देश में हिन्दुत्वनिष्ठ विचारों का शासन होते हुए भी अवैध पशुवधगृह, गोमाता का अवैध परिवहन, गोहत्या, गोमांस निर्यात आदि में से किसी पर भी प्रतिबंध नहीं है । 
२. सत्ताधारी भाजपा ने लोकसभा चुनाव के प्रचार में भारत की गुलाबी क्रांति (पिंक रिवॉल्यूशन) रोकने का आश्‍वासन दिया था । वास्तव में देखा जाए तो विदेश में गोमांस का निर्यात बढने के आंकडे सामने आ रहे हैं ।
३. गोतस्कर और कसाइयों पर कार्यवाही करने के स्थान पर पुलिस उन्हें सुरक्षा प्रदान करती है तथा वैधानिक मार्ग से कार्य करनेवाले गोरक्षकों पर झूठे अपराध प्रविष्ट करती है ।
४. गाय दूध देती है, मत नहीं, इस नई विचारधारा के अनुसार शासन गोरक्षकों पर अन्याय करे, तो वह संतापजनक है । इसलिए हिन्दुआें की भावनाआें का आदर करते हुए शासन श्री. सतीशकुमार प्रधान के विरोध में प्रविष्ट किए गए अपराध तत्काल निरस्त करे तथा उन्हें मुक्त कर गोमाता की सुरक्षा हेतु ठोस कदम उठाए।  

देशविरोधी मुसलमान भारत छोड दें ! - हिंदु संहती

आंदोलन में हिन्दुआें को संबोधित करते हुए श्री. तपन घोष
    कोलकाता (बंगाल) - हिन्दूवीर गोपाल मुखर्जी स्मरण दिवस के निमित्त हिन्दुत्वनिष्ठ संगठन हिन्दू संहती (हिन्दू एकता) द्वारा यहां एक सभा का आयोजन किया गया था । वर्ष १९४६-१९४७ में धर्मांध मुसलमानों के आक्रमण के समय हिन्दूवीर गोपाल मुखार्जी ने हिन्दुआें की सुरक्षा के लिए अविस्मरणीय प्रयास किए थे । उनके लिए यह दिवस मनाया जाता है ।

पंजाब गोरक्षक दल के प्रमुख सतीशकुमार प्रधान बनाए गए बंदी !

स्वतंत्रता के ६९ वर्षों पश्‍चात भी गोरक्षक हिन्दुत्वनिष्ठों पर शासकों द्वारा अत्याचार हो रहे हैं । इससे यह स्पष्ट होता है कि हिन्दू अभी तक योग्य शासक नहीं चुन सके । यह स्थिति परिवर्तित करने के लिए हिन्दू राष्ट्र (सनातन धर्मराज्य) की स्थापना के अतिरिक्त विकल्प नहीं है  ! 
    पटियाला (पंजाब) -  पटियाला पुलिस ने २१ अगस्त को पंजाब गोरक्षक दल के प्रमुख श्री. सतीशकुमार प्रधान को बंदी बनाया । (पंजाब में बडी मात्रा में अमली पदार्थों की तस्करी हो रही है । इस ओर तत्परता से कोई ठोस कार्यवाही न कर, पुलिस गोरक्षकों पर तत्काल कार्यवाही करती है । पंजाब में आगामी चुनाव में हिन्दू और गोरक्षकों को मतपेटी द्वारा इसका निषेध करना चाहिए ! - संपादक)

बौद्धों के अत्याचारों के कारण भूटान से ५३ सहस्र हिन्दुआें ने ली अमेरिका में शरण !

    वॉशिंग्टन (अमरीका) - १९९० के दशक में भूटान में वन नेशन, वन पीपल आंदोलन चलाया गया । इस आंदोलन में बौद्धों द्वारा किए अत्याचारों के कारण यहां के ५० सहस्रों से अधिक हिन्दुआें ने भूटान छोडकर अमेरिका में शरण ली थी । एक सर्वेक्षणानुसार आज भी ५३ सहस्रों से अधिक हिन्दू शरणार्थी अमरिका में रहते हैं ।
१. पीईडब्लू रिसर्च के अनुसार वर्ष २००५ से इस वर्ष के अगस्त तक ५३ सहस्र ६६२ हिन्दुआें ने अमेरिका में शरण ली । इसमें केवल भूटान के ५३ सहस्र १५ शरणार्थी समाविष्ट थे ।

इंग्लैंड की युनिवर्सिटी अकादमी केहली द्वारा मनाया गया हिन्दू धर्म दिवस !

क्या निधर्मी भारत के महाविद्यालयों में कभी ऐसा कार्यक्रम हो सकता है ?
    लंडन (इंग्लैंड) - हिन्दू धर्मांतर्गत प्रथा और परंपराआें को समझ लेने के उद्देश्य से इंग्लैंड के एटले स्थित युनिवर्सिटी अकादमी केहली नामक माध्यमिक विद्यालय में कुछ दिन पूर्व ही हिन्दू धर्म दिवस मनाया गया । हिन्दू धर्म के बारे में जानकारी हो, इस उद्देश्य से हिन्दू धर्म पर आधारित प्रश्‍नोत्तर का सत्र आयोजित किया गया था । इस समय विविध अभिनयों के माध्यम से हिन्दू धर्म समझने का प्रयास किया गया । इंडिया लाईव टुडे के प्रवक्ताआें ने कहा, इस कार्यक्रम के कारण विद्यार्थियों को हिन्दू संस्कृति के बारे में बहुत कुछ सीखने को मिला ।  (२२ अगस्त)

आतंकवाद के विरुद्ध लडना, भविष्य की महासत्ता भारत का दायित्व ! - सीरिया के राष्ट्राध्यक्ष बशर अल् असद

    दमास्कस (सीरिया)- भारत वैश्‍विक महासत्ता के रूप में उभरने लगा है, इसलिए आतंकवाद के विरुद्ध लडाई में भारत का बडा दायित्व है, ऐसा प्रतिपादन बशर अल् असद ने किया । (सीरिया को विश्‍वास है कि भारत उनके देश का आतंकवाद नष्ट करेगा; परंतु इसे साकार करने के लिए भारत को पहले अपने देश का आतंकवाद नष्ट करना होगा ! - संपादक) पिछले दशक में हमने संहार देखा, अब भावी दशक निर्मिति का होना चाहिए । भारत के विदेश मंत्रालय के राज्यमंत्री एम्.जे. अकबर ने असद की भेंट ली, उस समय असद बोल रहे थे । १७ अगस्त से अकबर पश्‍चिम एशिया की यात्रा पर थे ।

फ्रान्स में बुर्किनी पहनने पर लगा प्रतिबंध हटाया !

    फ्रान्स - फ्रान्स के उच्च न्यायालय ने मुसलमान महिलाआें की बुर्किनी (मुसलमान महिलाआें द्वारा तैरने के लिए उपयोग में लानेवाला पोषाख) पर लगा प्रतिबंध हटाया है । इसका कारण देते हुए न्यायालय ने कहा, बुर्किनी पर प्रतिबंध लगाना, यह अभिव्यक्ति स्वतंत्रता, विचार स्वतंत्रता एवं संचार स्वतंत्रता आदि अधिकारों का उल्लंघन होने से, ऐसा करना अवैध है ।
    कुछ ही दिन पूर्व फ्रान्स के नीस शहर में समुद्र तट पर एक मुसलमान महिला को उसकी बुर्किनी उतारने के लिए बाध्य किया था । इस पार्श्‍वभूमि पर बुर्किनी-प्रतिबंध को विश्‍वभर से विरोध हो रहा है । (फ्रान्स में बुर्किनी को विरोध होने पर विश्‍वभर से उसकी प्रतिक्रिया आती है । परंतु जब हिन्दुआें की धार्मिक स्वतंत्रता पर आघात होता है तब, भारत के हिन्दू उसका केवल मौखिक निषेध तक नहीं करते ! - संपादक)   

आतंकवादी निर्माण करनेवाली मस्जिदें बंद करनी चाहिए ! - मगदी अल्लम, इटली

    रोम (इटली) - यहां के नेता मगदी अल्लम ने मांग की है कि सभी मस्जिदों को तत्काल बंद किया जाए; क्योंकि मस्जिदें आतंकवादियों के कारखाने हैं । इटली के पिसा में नई मस्जिदें निर्माण करने की मांग की जा रही है । इस पर मगदी ने यह प्रतिक्रिया व्यक्त की है ।

चक्रवात के कारण जापान में १० सहस्र लोग विस्थापित !

    टोकीयो (जापान) - माइंडल एवं लायनरॉक नामक चक्रवातों के कारण जापान में १० सहस्र नागरिकों को विस्थापित होना पडा । २ दिनों में ३ बार ये चक्रवात आए । इसमें एक व्यक्ति की मृत्यू हुई । टोकीयो में प्रति घंटा लगभग ११० मील अथवा १८० किलोमीटर वेग से आंधी आई थी और इस कारण सैंकडो ऊडानें निरस्त की गई ।  (२४ अगस्त) 
महर्षि का प्रलयकाल के संदर्भ में सतर्क करना
    १९.३.२०१६ को हुए नाडीवाचन क्रमांक ६७ में महर्षिजी कहते हैं, यह पूर्ण वर्ष प्रलयकाल तथा आपदाआें का होगा । (भारत-म्यांमार सीमा पर हुआ भूकंप और चक्रवात के कारण जापान में १० सहस्र लोगों का विस्थापित होना, इन घटनाआें से पता चलता है कि प्रलयकाल के संदर्भ में महर्षिजी ने की भविष्यवाणी कितनी सत्य है ! - संपादक)   

सौदी अरब में हो रही है भारतीय महिलाआें की बिक्री !

    नई देहली - अनेक भारतीयों को बडे वेतन का लालच दिखाकर अरब देश भेजा जाता है । परंतु, वहां की सच्चाई कुछ और ही है । वहां भारतीय महिलाआें की वस्तुआें की भांति बिक्री की जाती है । सौदी अरब में ४ लाख; बहरीन, कुवैत और संयुक्त अरब अमिरात में २ लाख रुपए में महिलाएं बेची जाती हैं ।

मणिकर्णिका घाट के शवदाह स्थल पर बलपूर्वक शुल्क वसूलनेवालों के विरुद्ध जिलाधिकारी को पत्र

अधिवक्ता त्रिपाठी
वाराणसी (उ.प्र.) - यहां मणिकर्णिका घाट के शवदाह स्थल पर अनेक लोग अपने प्रियजन एवं परिजनों के शवदाह करने आते हैं; पर इन शोक संतप्त लोगों से शवदाह हेतु बलपूर्वक भारी-भरकम धनराशि वसूली जाती है । कुछ लकडी विक्रेता भी मनमाना मूल्य बलपूर्वक वसूलते हैं । ऐसा करनेवालों के विरुद्ध प्रभावी समुचित कार्यवाही हेतु दिनांक २९.८.२०१६ को वाराणसी के अधिवक्ता कमलेश चन्द्र त्रिपाठी ने जिलाधिकारी महोदय को प्रार्थना पत्र दिया ।

मस्जिदों के बाहर रास्ता रोककर प्रत्येक शुक्रवार की नमाज पढने के विरोध में अखंड भारत मोर्चा का परिवाद !

प्रत्येक बार न्यायालय का आदेश दिखाकर
हिन्दुआें के धार्मिक उत्सवों पर कार्यवाही करनेवाली पुलिस उन्हीं आदेशों
और नियमों का उल्लंघन करनेवाले मुसलमानों के सामने हाथ जोडे खडी रहती है !

केवल देहली में ही नहीं, देश के सहस्रों स्थानों पर इस प्रकार रास्ता रोककर नमाज पढी जाती है; परंतु कोई धर्मनिरपेक्षतावादी और आधुनिकतावादी इस पर कुछ नहीं बोलता !

     नई देहली - यहां के हासनपुर आगरा निकट कथित दरगाह के बाहर रास्ते पर प्रत्येक शुक्रवार को सैकडों मुसलमान नमज पढते हैं । अन्य स्थानों पर भी मस्जिदों के बाहर नमाज पढी जाती है । इससे नागरिकों को समस्या होती है । अब इस कथित दरगाह को  मस्जिद बनाने का प्रयत्न किया जा रहा है । इस पर कार्यवाही की जाए, ऐसी मांग अखंड भारत मोर्चा संगठन की ओर से पुलिस को निवेदन देकर की गई । यदि हिन्दू इसी प्रकार महाआरती अथवा महाहनुमान चालिसा का पाठ आरंभ कर देंगे, तो प्रशासन को बहुत भारी पडेगा, ऐसी चेतावनी इस संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री. संदीप आहुजा ने दी । संगठन ने शहर के पंचेश्‍वर शिव मंदिर, विकास मार्ग, लक्ष्मी नगर में मंदिर के सामने दो बार हनुमान चालिसा का पाठ किया ।

बक्सर में ५०० दलितों का धर्मांतरण !

घर वापसी का  विरोध करनेवाले हिन्दुओं के धर्मांतरण पर मौन क्यों ?

    बक्सर (बिहार) - यहां के चौंगाई गांव के ५०० दलितों ने हिन्दू धर्म त्याग कर ईसाई धर्म स्वीकार लिया । कहा जाता है कि उन्हें प्रलोभन दिखाकर उनसे यह करवाया गया । और ५०० दलितों पर धर्मांतरण करने का दबाव डाला जा रहा है । इस घटना की जानकारी मिलने पर जिलाधिकारी रमण कुमार ने इसकी जांच करने का आदेश दिया है । (केंद्र सरकार को शीघ्रातिशीघ्र धर्मांतरण विरोधी कानून बनाकर धर्मांतरण रोकना चाहिए ! - संपादक)

योग्य दक्षिणा लेकर अथवा दक्षिणा लिए बिना शास्त्रोक्त पद्धति से धार्मिक विधि करने के इच्छुक पुरोहितों, पौरोहित्य की सेवा में सम्मिलित हों !

ब्राह्मतेज प्रदान करनेवाले सेवा में सम्मिलित होने का सर्वत्र के पुरोहितों को स्वर्ण अवसर !
१. यज्ञ एक वरदान ही है !
    श्रीमद् भगवद्गीता में भगवान श्रीकृष्ण ने यज्ञ को कामधेनु कहा है । पुरोहितों द्वारा किए गए शास्त्रोक्त मंत्रपठन के कारण वायुमंडल की शुद्धि तो होती ही है; व्यक्ति, समाज एवं राष्ट्र को भी उस मंत्रशक्ति से लाभ होता है । अवर्षणादि प्राकृतिक प्रकोपों को रोककर पर्जन्यवृष्टि करने का सामर्थ्य यज्ञयाग में है । यज्ञ,यह भारतीय संस्कृति को प्राप्त एक बहुत बडा वरदान ही है ।

गोरक्षकों संबंधी वक्तव्य वापस लेने की प्रधानमंत्री से मांग !

वल्लभगढ में आंदोलन करते समय धर्माभिमानी हिन्दू

पुणे और मुंबई सहित कई स्थानों पर सनातन के समर्थन में हिन्दुत्वनिष्ठ संगठनों का भव्य मोर्चा !

हम सब सनातन, सनातन !
और हमारा धर्म सनातन, सनातन !
इन घोषणाआें से वायुमंडल गूंज उठा !

    पुणे (महाराष्ट्र) -  इस अवसर पर अपने ओजस्वी मार्गदर्शन में समर्थभक्त पूज्य सुनील चिंचोलकर ने कहा, डॉ. दाभोलकर की हत्या होने पर पुणे में अनेक स्थानों पर फ्लेक्स के विज्ञापन लगाए गए थे, जिसमें लिखा था, तुकाराम महाराज, गांधी, दाभोलकर के पश्‍चात किसकी बारी ? बार-बार यह झूठ बोला जाता है कि ये हत्याएं ब्राह्मणों ने की हैं ।

हिन्दू जनजागृति समिति की ओर से हिन्दू राष्ट्र की स्थापना की अपरिहार्यता के विषय में मार्गदर्शन

    हरियाणा - यहां के गुरुग्राम स्थित राव राम सिंह विद्यालय में समिति के राष्ट्रीय मार्गदर्शक पू. डॉ. पिंगळेजी ने अध्यात्म का महत्त्व तथा विज्ञान की सीमाएं, भारतीय संस्कृति का महत्त्व, वर्तमान में हिन्दुआें की स्थिति और हिन्दू राष्ट्र की स्थापना आदि संबंधी उपस्थित जिज्ञासुआें को मार्गदर्शन किया । इस समय समिति की जानकारी तथा तमिलनाडु के संत परम पूज्य रामभाऊ स्वामी जी के अग्निप्रवेश की सीडी भी दिखाई गई । राव राम सिंह विद्यालय के प्रबंधक श्री. जगदीश यादव जी ने विद्यालय का हॉल निशुल्क उपलब्ध कराकर धर्मकार्य में सहयोग दिया ।

बाबरी को बचाने के लिए ही कारसेवकों को मरवाया ! - (मुल्ला) मुलायमसिंह यादव

    लक्ष्मणपुरी (लखनऊ) - बाबरी मस्जिद बचाने के लिए ही मैंने कारसेवकों पर गोलियां चलाने का आदेश दिया था । ऐसा न किया होता, तो मुसलमानों का देश परसे विश्‍वास उठ गया होता । (जिन मुसलमानों के लिए कारसेवकों की हत्या की, उनका इस देश पर विश्‍वास होने का प्रमाण मुलायमसिंह यादव दे सकते हैं ? क्या मारे गए कारसेवकों के परिजनों के पालन-पोषण का दायित्व मुलायमसिंह ने लिया है ? - संपादक)

सनातन संस्था व हिन्दू जनजागृति समिति द्वारा हरियाणा और उत्तरप्रदेश में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर प्रवचन एवं ग्रंथ-प्रदर्शनी का आयोजन

१. फरीदाबाद (हरियाणा)
    यहां कृष्णजन्माष्टमी के अवसर पर सनातन धर्म मंदिर में समिति द्वारा जन्माष्टमी का धर्मशास्त्र और उस समय होनेवाले अनाचार किस प्रकार रोकें इन विषयों पर प्रवचन लिया गया ।  
    इस अवसर पर ग्रंथों के साथ ही सात्विक उत्पादों की प्रदर्शनी भी लगाई गई । इसका लाभ ३५० से भी अधिक जिज्ञासुओं ने लिया ।

... उस दिन हमारे घर से मां-पिताजी की अर्थी एक साथ निकली ! - श्रीमती अर्चना काक

विस्थापित कश्मीरी हिन्दू ने व्यक्त किया हृदयविदारक मनोगत 
श्रीमती अर्चना काक
भुवनेश्‍वर (ओडिशा) - यहां एक भारत अभियान - कश्मीर की ओर के अंतर्गत भारत रक्षा मंच, हिन्दू जनजागृति समिति और पनून कश्मीर द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित सभा में विस्थापित कश्मीरी हिन्दू श्रीमती अर्चना काक ने अपना मनोगत व्यक्त करते हुए कहा, मेरे पिताजी जम्मू-कश्मीर के पुलिस विभाग में निष्ठा से देशसेवा करते थे ।

सनातन के आगामी आपातकाल के लिए संजीवनी ग्रंथमाला का नूतन ग्रंथ !

प्राणशक्ति (चेतना) प्रणाली में अवरोधों के कारण होनेवाले विकारों पर उपचार
                  (रोगनिवारण के लिए प्राणशक्ति (चेतना) प्रणाली के अवरोधों को स्वयं ढूंढकर दूर करना)
    संतों की भविष्यवाणी है कि आगामी तृतीय विश्‍वयुद्ध में परमाणु युद्ध और भीषण प्राकृतिक आपदाआें के कारण करोडों लोगों की मृत्यु होगी । इस दृष्टि से केवल आपातकाल की नहीं, अपितु अन्य समय भी उपयोगी सनातन का ग्रंथ प्राणशक्ति (चेतना) प्रणाली में अवरोध के कारण होनेवाले विकारों पर उपाय से आपको क्रमशः परिचित करवा रहे हैं ।

ज्वर, डर और निडर !

क्या आपको ज्वर है ? तब यह लेख अवश्य पढें ।
इसमें ज्वर होने पर हम जो चूकें करते हैं, वह बताकर कर उनका उपाय बताया है । उसके कुछ अंश...


१. ज्वर होनेपर पैरासिटामॉल लेना, अस्थायी उपचार !
    आयुर्वेद में ज्वर को सर्वरोगाधिपति, बलि आदि अनेक विशेषण देकर गौरवान्वित किया गया है । आयुर्वेद में ज्वर का जितना विस्तृत वर्णन किया गया है, उतना वर्णन अन्य किसी रोग का नहीं किया गया है ।

पुलिस तथा राजनेताआें द्वारा सनातन संस्था के साधकों के परिजनों को दी मानसिक यातनाएं !

 प्रभु श्रीरामचंद्र के समय की प्रजा और शिवाजी महाराज के समय की रयत (जनता) जिस प्रकार सुखी थी, उसीप्रकार हिन्दू राष्ट्र में जनता भी सुखी होगी ! - (परात्पर गुरु) डॉ. आठवले (३०.११.२०१५) 
 मडगांव विस्फोट प्रकरण में निर्दोष छूटे सनातन के साधकों और उनके परिजनों के कटु अनुभव !

आध्यात्मिक पहेली

      अधिकांश नियतकालिकों में शब्दपहेलियां होती हैं । वे बौद्धिक स्तर की होती हैं । सनातन प्रभात आध्यात्मिक नियतकालिक होने से इस लेखमाला में आध्यात्मिक स्तर की पहेलियां दी हैं । अत: इससे मानसिक, बौद्धिक एवं आध्यात्मिक स्तर की पहेलियों में भिन्नता ध्यान में आएगी ।
वर्तुल, त्रिकोण, चौकोन, पंचकोण और षट्कोण इन शब्दों का उच्चारण करना प्रयोग : वर्तुल, त्रिकोण, चौकोन, पंचकोण, षट्कोण, इन प्रत्येक शब्द का आधे से एक मिनट तक उच्चारण करें और क्या प्रतीत होता है, वह प्रत्येक उच्चारण के उपरांत लिखकर रखें ।

भारत के सुप्रसिद्ध श्राद्धविधि किए जानेवाले कुछ क्षेत्र

श्राद्ध कहां करें ?
१.    दक्षिण की ओर ढलानवाला स्थान श्राद्ध के लिए उत्तम है ।
२.    गोबर से लीपी गई तथा कीटकादि प्राणी एवं अपवित्र वस्तुओं से वर्जित भूमि श्राद्ध के लिए उत्तम है ।
३.    वन, पुण्यस्थान अथवा संभव हो तो अपने घर में, निचले तल्ले पर श्राद्ध करें । तीर्थस्थान की तुलना में अपने घर में श्राद्ध करने से आठ गुना पुण्य प्राप्त होता है । ५० प्रतिशत पितरों का निवास उनकी पारंपरिक वास्तु में ही होनेके कारण घर में श्राद्ध करने से तीर्थक्षेत्र में किए गए श्राद्ध की तुलना में आठ गुना अधिक लाभ होता है । विशेष प्रसंग में दूसरों के घर में उनकी अनुमति से या कुछ किराया देकर श्राद्ध के लिए स्थान निश्‍चित करें ।

पितृपक्ष (महालय पक्ष) (आरंभ : १७ सितंबर)

महत्त्व
    आश्‍विन के कृष्ण पक्ष को पितृपक्ष कहते हैं । यह पक्ष पितरों को प्रिय है । इस पक्ष में पितरों का महालय श्राद्ध करने से वे वर्षभर तृप्त रहते हैं ।
वर्षश्राद्ध करने के उपरांत पितृपक्ष में भी श्राद्ध क्यों करें ?

भारत के सुप्रसिद्ध श्राद्धविधि किए जानेवाले कुछ क्षेत्र

विष्णुपद मंदिर गया, बिहार
यहां गयासुर नामक राक्षस के शरीर पर
श्रीविष्णु ने अपने चरण रखे थे । यहां विष्णुपद है ।
यहां श्राद्धविधि करने पर ७ पीढियों को गति मिलती है । 
  
अक्षय वट, गया, बिहार

श्राद्धकर्म संबंधी आलोचनात्मक विचार एवं उनका खंडन

१. श्राद्धकर्म उदरनिर्वाह हेतु ब्राह्मणों द्वारा रचित षड्यंत्र है !
खंडन : अ.
लाखों वर्षों से आजतक समस्त हिंदुस्थान के प्रत्येक गांव, प्रत्येक घर और प्रत्येक स्थान पर श्राद्ध किया जाता है । एक प्रसिद्ध लोकोक्ति है । सभी लोगों को हर बार मूर्ख नहीं बनाया जा सकता (You cant fool all the people all the time) । इसके अनुसार यदि श्राद्धकर्म ब्राह्मणों का षड्यंत्र होता, तो क्या वे समाज को इतने वर्षों तक संभ्रमित कर पाते ? आज भी गया, त्र्यंबकेश्‍वर, प्रयाग आदि पवित्र स्थानों पर श्राद्धकर्म किया जाता है ।

पू. (श्रीमती) सुशीला मोदी, सोजतरोड (जिला जोधपुर), राजस्थान की साधना यात्रा !

पू. (श्रीमती) सुशीला मोदी
१. पूर्व साधना
    मैं प्रारंभ से ही नामजप, स्तोत्रपाठ, ग्रंथ पढना, व्रत-उपवास आदि साधना करती थी । 
२. सनातन संस्था के  माध्यम से साधना का प्रारंभ
    सनातन संस्था के साधक हमारे गांव और घर आए थे । उस समय संस्था से मेरा परिचय हुआ । उन्होंने कहा कि वे साधना के विषय में मेरा मार्गदर्शन करेंगे । तब मैंने उन्हें कहा,आप मुझे ध्यान करने हेतु कहेंगे, तो मेरा ध्यान नहीं लगता ।

परात्पर गुरु डॉ. जयंत आठवलेजी के अमृत महोत्सव वर्ष निमित्त...

प.पू.  डॉ. जयंत  आठवले
गुरुदेव, गुरुदेव मन रटता है ।
    गुरुदेव ने मुझे संभाला है ।
    गुरुदेव ने मुझे पाला है ॥
    गुरुदेव ही दुःखहर्ता हैं ।
    गुरुदेव ही सुखकर्ता हैं ॥
    गुरुदेव हमारे सर्वज्ञाता हैं ।
    गुरुदेव ही हमारे विधाता हैं ॥
    गुुरुदेव ही जीवन का सार हैं ।
    गुरुदेव ही हमारा संसार हैं ॥

सनातन की पूजनीय (श्रीमती) सखदेवदादी के देहत्याग के संदर्भ में देश-विदेश के साधकों को हुईं अनुभूतियों से साधक अच्छी प्रगति कर रहे हैं, यह सिद्ध होना ! - (परात्पर गुरु) डॉ. आठवले

    
     पिछले १० वर्षों में सनातन के ९ संतों ने देहत्याग किया है । पूजनीय (श्रीमती) सखदेवदादी के देहत्याग के संदर्भ में देश-विदेश के साधकों को जिस प्रकार की अनुभूतियां हुईं हैं, वैसी अभीतक किसी भी संत के संदर्भ में नहीं हुईं । इससे यह सिद्ध होता है कि पिछले १० वर्षों में सनातन के अनेक साधकों ने अच्छी प्रगति की है । इसलिए उन्हें सूक्ष्म की अनेक अनुभूतियां हुईं हैं । इतना ही नहीं, यह अनुभूतियां स्थल-काल की मर्यादा के परे हैं । - (परात्पर गुरु) डॉ. आठवले